च्यवनप्राश एक आयुर्वेदिक संरूपण है, जिसको खाने से देश में आहार के आवश्यक हिस्से की भांति किया जाता है। इस हर्बल उपचार की लोकप्रियता अब कोरोना से बचने तथा निगरानी तक पहुंच गई है। इसके अपार सेहत लाभों के कारण, च्यवनप्राश का इस्तेमाल प्राचीन काल से आयुर्वेदिक डॉक्टर्स द्वारा प्रतिरक्षा बढ़ाने तथा लंबी उम्र के लिए किया जाता रहा है। वही हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय ने 'पोस्ट कोरोना मेनेजमेंट प्रोटोकॉल' जारी किया, जिसमें च्यवनप्राश का सेवन, योग आसन, सांस लेने के योग, प्रतिदिन प्रातः अथवा शाम को चलना जैसी सलाह दी गई हैं।

कोरोना मेनेजमेंट पर मंत्रालय की गाइडलाइन भी संतुलित पौष्टिक आहार खाने की सलाह दी गई हैं, साथ-साथ पर्याप्त आराम तथा नींद लेने के लिए भी कहा गया है। इसके अतिरिक्त आरंभिक लक्षणों जैसे कि तेज़ बुखार, सांस की समस्या, सीने में दर्द, आदि को इग्नोर नहीं करना है। COVID-19 वायरस के लिए चिकित्सक द्वारा दी गई सलाह के मुताबिक नियमित रूप से दवा लेना, चिकित्सकों से कांटेक्ट बनाए रखना तथा COVID-19 से उबर जाने के पश्चात् आवश्यक देखभाल पर ध्यान देना सम्मिलित हैं।

वही इससे पूर्व आयुष मंत्रालय ने पंजीकृत आयुर्वेद डॉक्टर के डायरेक्शन में प्रातः गुनगुने पानी / दूध के साथ च्यवनप्राश के इस्तेमाल का सुझाव दिया था। परन्तु प्रश्न ये है कि क्या सच में च्यवनप्राश कोरोना संक्रमण से हमारी सुरक्षा कर सकता है? तो आपको बता दे कि च्यवनप्राश विटामिन, खनिज तथा पावरफुल एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को स्ट्रांग करने की तथा तरह-तरह की स्वास्थ्य परेशानियों को रोकने में सहायता कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपस्थित उच्च विटामिन-सी सामग्री आपकी प्रतिरक्षा, चयापचय को बढ़ावा देने के साथ कई प्रकार के वायरल और बैक्टीरियल संक्रमणों से बचाती है, जैसे आम सर्दी और खांसी। साथ ही ये कोरोना से बचने में भी सहायक है।

यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह कोरोना पॉजिटिव, तीन दिन पहले रसोइया हुआ था संक्रमित

कोरोना पर डॉ हर्षवर्धन का दावा- लॉकडाउन के कारण बची 37 से 78 हजार लोगों की जान

इन घरेलू उपायों से दे मोटापे को मात

आज के वक़्त में मोटापा सबसे बड़ी परेशानी बन चुका है। जिसकी वजह से कई बीमारियां, जैसे- मधुमेह, दिल की बीमारी, कई प्रकार के कैंसर और स्ट्रोक आदि की संभावना पैदा हो जाती है। इसमें कोई शक नहीं है कि मोटापा किस उम्र में बढ़ता है, यह समस्या किसी भी उम्र में पैदा हो सकती है। अधिक वसा वाली चीजों का सेवन करना और खराब जीवनशैली मोटापे की 2 प्रमुख वजह होती हैं और एक बार जब वजन बढ़ जाता है तो उसे घटाना थोड़ा कठिन हो जाता है। लेकिन  कुछ घरेलू उपाय हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने मोटापे से छुटकारा पा सकते है.

नींबू और शहद का करें सेवन: नींबू का रस और शहद वजन घटाने के लिए सबसे अच्छे नुस्खों में से एक है। जिसके लिए आधे नींबू के रस को एक गिलास पानी में मिला लें और फिर उसमें 2 चम्मच शहद मिलाएं और उसे जल्दी से पी जाएं। इस मिश्रण को दिन में 3-4 बार पिएं। जिससे काफी लाभ मिलेगा। 

काली मिर्च से भी कम होता है मोटापा: काली मिर्च में पिपराइन घटक पाया जाता है, जिससे फैट को कम करने में सहायता मिलती है। एक छोटी चम्मच काली मिर्च पाउडर आप किसी भी रूप में सेवन कर सकते है। ऐसा रोजाना करने से मोटापा कम करने में सहायता मिल जाएगी। 

सौंफ का इस तरह करें सेवन: सौंफ के बीज को मोटापा कम करने में सबसे असरदार कहा जाता है। जिसके लिए सबसे पहले तो सौंफ के बीज का पाउडर बना लें और फिर उसमें से आधा या एक चम्मच गर्म पानी में मिला लें और उसे पी जाए। इस मिश्रण को खाना खाने से कुछ देर पहले और कम से कम दिन में 2 बार पिएं तो मोटापा घटाने में सहायता मिल सकती है।  

सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है नारियल पानी, जानें इसके लाभ

बरसात के मौसम में लें पनीर का लुत्फ, इस तरह बनाएं दम पनीर

सामंथा अक्किनेनी ने दिया स्वास्थ्य रहने का संदेशअमित शाह की तबियत फिर बिगड़ी, सांस लेने में समस्या के बाद दिल्ली AIIMS में हुए भर्ती

इंडिया में खाने में तो मसालों का इस्तेमाल किया ही जाता है, साथ ही इनका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं की तरह रोगों को ठीक करने के लिए भी होता है। पहले के वक़्त में दादी-नानी घर पर ही मसालों से जुड़े देसी नुस्खों के बारे में जानकारी देती थीं, जिसमें हरी इलायची भी मौजूद है। हरी इलायची को लोग मसाले के रुप में उपयोग करते हैं। जिसका सबसे अधिक इस्तेमाल लोग स्वीट डिश में खुशबू और टेस्ट को बढ़ाने के लिए करते हैं। रसोई में सरलता से मिलने वाली इलायची के कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। हरी इलायची का प्रतिदिन सेवन आपको कई तरह की बीमारियों से दूर रखता है।

इलायची को माउथ फ्रेशनर की तरह इस्तेमाल किया जाता है,क्योंकि ये मुंह की बदबू से भी छुटकारा दिलाती है। अगर आपको मुंह से दुर्गंध आने की परेशानी है, तो खाना खाने के बाद एक या दो इलायची चबा लें। इससे हाजमा भी ठीक रहेगा और मुंह की दुर्गंध से निजात भी मिल जाएगी।

किसी को परेशानी होती है कि जब उनके पेट में गैस होती है तो सिर में दर्द होना शुरू हो जाता है। इसलिए इलायची का सेवन करें। इससे आपकी पाचन प्रकिया और भी आसान हो जाती है। गैस के कारण सिर में होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है। इलायची का सेवन बदहजमी की वजह से होने वाली एसिडिटी की परेशानी में भी राहत दिलाता है। खाना खाने के बाद मुंह में इलायची डाल कर लगभग सौ कदम टहलना जरुरी है।

इलायची शरीर के टॉक्सिन (विषैले पदार्थ) को बाहर निकालने में मदद करती है। जिसमे कैल्शियम,पौटेशियम और मैग्नेशियम जैसे खनिज पाए जाते हैं। इलायची का सेवन रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में मददगार है।

ड्रग्स मामले में आया इस एक्टर का बयान, कहा- 'पूरी इंडस्ट्री ड्रग में लिप्त नहीं है'

गुजरात भाजपा अध्यक्ष की दूसरी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव, अस्पताल में हुए भर्ती

अक्षय कुमार ने ख़ास अंदाज में दी हिंदी दिवस की बधाई

कोरोना दौर में लोगों को अपनी हेल्थ पर खास ध्यान देने की आवश्यकता है. अगर विशेषज्ञों की मानें तो इम्युनिटी कमजोर होने पर वायरस का खतरा और भी बढ़ जाता है. इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए विटामिन-सी युक्त फलों और सब्जियों का उपयोग करें, व्यायाम करें और हर दिन काढ़ा का सेवन करें. इसके साथ ही नारियल पानी का भी सेवन करें. नारियल पानी के सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत हो जाता है. अगर आपको नारियल पानी पीने के लाभ के बारे में नहीं पता है, तो चलिए आज हम आपको बताते हैं-

वजन कम करने मददगार
कई शोध में खुलासा हुआ है कि नारियल पानी पीने से बढ़ते वेट को काबू में किया जा सकता है. एक रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, तकरीबन 250 ग्राम नारियल पानी में महज चालीस कैलोरीज होती है. आखिरी इसे पीने से बॉडी में वसा नहीं जमती है. जबकि बढ़ते वेट से छुटकारा मिल सकता है.

सन बर्न में लाभदायक
नारियल पानी में विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो स्की के लिए लाभदायक साबित होते हैं. नारियल पानी के सेवन से सनबर्न कम हो जाता है. इसके लिए आप हर रोज नारियल पानी का उपयोग कर सकते हैं. डॉक्टर्स गर्भवती औरतों को नारियल पानी पीने की एडवाइस देते हैं. इससे कब्ज की परेशानी दूर हो जाती है. साथ ही दिल में होने वाली जलन में भी राहत मिलती है.

एंटी एजिंग 
नारियल पानी में एंटी-एजिंग पाया जाता है. इसमें cytokines, प्रोटीन्स, लॉरिक एसिड भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. लॉरिक एसिड स्किन को वायरस से बचाता है. आप अगर चाहे तो हर रोज नारियल पानी पी सकते हैं. साथ ही मुहांसे से भी छुटकारा दिलाता है. इसके लिए हर रोज खाली पेट नारियल पानी नींबू रस संग पिएं.

PPE किट घोटाले को लेकर उग्र हुईं प्रियंका गाँधी, योगी सरकार को लिया निशाने पर

शिवराज शासन में 'मुर्दे' खा रहे सरकारी राशन, ज़िंदा लोगों को नहीं मिल रहा अन्न का दाना

कांग्रेस पर जमकर बरसे सिंध्या, कमलनाथ और दिग्विजय पर भी साधा निशाना

वर्क फ्रॉम होम हो या फिर वर्क फ्रॉम ऑफिस, दोनों में ही शरीर में थकावट मेहसूस होने लग जाती हैं. खासतौर पर डेस्क जॉब में आपके दिमाग और आंखो पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है. वहीं, लैपटॉप और स्मार्टफोन पर दिक्कत और भी बढ़ जाती है. अगर आपको थकावट के साथ-साथ हमेशा बॉडी में दर्द की परेशानी भी रहती है, तो फिर आप शवासन को करना प्रारंभ कर दें.

इस तरह करें शवासन 
-शवासन में बस लेटने की आवश्यकता होती है. सर्वप्रथम घर का वह कोना तलाशें जहां शांति मौजूद हैं.
-अब वहां एक आसन या चटाई को बिछा लें और पीठ के बल लेट जाएं.
-दोनों हाथों को बॉडी से कम से कम पांच इंच की दूरी पर करें.
-दोनों पैरों के बीच में भी कम से कम एक फुट की दूरी रखें.
-हथेलियों को आसमान की और रखें और इसके बाद हाथों को ढ़ीला छोड़ दें.
-बॉडी को ढीला छोड़ दें.
-इसके बाद आंखों को बंद कर लें. अब धीरे-धीरे सांस लें.
-पूरा ख्याल अब अपनी सांसों पर केंद्रित करें.

शवासन के फायदे-
-जैसा कि प्रारंभ में ही बताया गया यह आसन टेंशन को दूर कर देता है.
-उच्च रक्तचाप, मधुमेह, मनोविकार, दिल की बीमारी वगैरह में भी इस योगासन से फायदा होता है.
-इस योगासन से बॉडी की थकान भी दूर हो जाती है और मन को शांति मिल जाती है.
-शवासन करने से याददाश्त, एकाग्रशक्ति भी तेजी से बढ़ जाती है. 

उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी के विरुद्ध कांग्रेसियों ने किया कैंडल मार्च

मुख्यमंत्री, मंत्रियों एवं विधायकों के वेतन में होगी कटौती, जारी हुआ अध्यादेश

सीएम योगी ने किया महोबा के एसपी को सस्पेंड

आज कल के लाइफस्टाइल के कारण लोगों को कुछ और मिले न मिले, ढेर सारा स्ट्रेस अवश्य बिन मांगे मिल जाता है. खास बात तो यह है कि शख्स को ये स्ट्रेस हर रोज की एक्टिविटी के कारण मिलता है. इस दौरान स्ट्रेस को दूर करने के लिए इलाज भी ऐसा होना चाहिए जो आपकी हर रोज की लाइफ से जुड़ा हो जैसे कि आपका खानपान. दरअसल, वैज्ञानिक शोध में ये बात पहले ही साबित हो गयी है कि कई फूड्स ऐसे होते हैं, जिन्हें खाने से मनुष्य की मांसपेशियों और तंत्रिकाओं को राहत मिलती है और उसका मानसिक तनाव कम होने लगता है. आइए जानते हैं कुछ ऐसे ही फूड्स के बारे में जिनका इस्तेमाल करने से आपको जल्द तनाव से मिलेगी मुक्ति-

ओटमील-
ओटमील में पर्याप्त तादाद में कार्बोहाइड्रेट पाए जाते है, जिससे हमारी बॉडी सेरोटिन प्रोड्यूस करती है. सेरोटिन मूड अच्छा करने का कार्य करता है और मन को शांति और आराम महसूस कराता है.

गिरीदार फल-
गिरीदार फल में शामील सिलेनियम, एक ऐसा खनिज है, जिसकी कमी से मनुष्य को बेचैनी, उत्सुक्ता और थकावट होती रहती है. यही कारण है कि डॉक्टर्स भी शख्स को रोजाना कुछ गिरीदार फल जैसे अखरोट, बादाम, पिस्ता आदि खाने की एडवाइस देते हैं. ऐसा करने से शख्स का दिमाग शांत बना रहता है.

ब्लूबेरी-
ब्लूबेरी में शामील पोटेशियम ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने में सहायता करता है. यह सरलता से स्ट्रेस रिलीज कर देता है. तनाव और डिप्रेशन में इसे दही संग मिलाकर खाने से बेहद राहत मिलती है.

डार्क चॉकलेट-
स्ट्रेस पर हुई एक रिसर्च के मुताबिक डार्क चॉकलेट का इस्तेमाल करने से मनुष्य को तनाव, चिंता और अवसाद को कम करने में सहायता मिलती है. चॉकलेट में शामील एंटीऑक्सीडेंट्स जैसे फ्लैवेनॉल्स आदि ब्रेन फंक्शन को अच्छा बनाने में सहायता करते हैं. इसका इस्तेमाल करने से ब्लड सर्कुलेशन भी अच्छा होता है.  

यह राज्य ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिंग 2019 में है सबसे ऊपर

आज़म खान को एक और झटका, गाजियाबाद-लखनऊ में बने हज हाउस की जाँच करेगी योगी सरकार
गोरखपुर दौरे पर पहुंचे सीएम योगी, कहा- बीमारी का ये मतलब नहीं कि सब काम बंद कर दें

नमक हमारे आहार का अहम भाग है. वैसे तो हम बिना मिर्च का भोजन खा सकते है लेकिन बिना नमक का खाना हमारे गले से नीचे नहीं उतर सकता. खाने में नमक सिमित में रहे तो खाने का टेस्ट बना हुआ रहता है लेकिन अधिक हो जाए तो खाने के टेस्ट को बिगाड़ देता है. इसी प्रकार आप लिमिट में नमक खाएं तो आपकी हेल्थ ठीक रहती है अगर अधिक नमक का उपयोग करेंगे तो बीमार पड़ जाएंगे. अधिक नमक का उपयोग  आपके ब्लडप्रेशर को बढ़ा सकता है. आपको हाइपरटेंशन का रोगी भी बना सकता है. खाने के ऊपर और अधिक नमक मसाले का छिड़काव आपकी हेल्थ के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. तो चलिए जानते है कि कैसे अधिक नमक आपकी हेल्थ के लिए खतरनाक है-

अधिक नमक से आंतों में हो सकती है सूजन:
भोजन में नमक का अधिक उपयोग करने से आपकी आंतों में सूजन आ सकती है. अमेरिका में हुए एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि अमेरिका के व्यस्क भोजन में नमक का ज्यादा उपयोग करते हैं, जिसकी वजह से उनकी आंतों में सूजन ज्यादा पाई गई है.

अधिक नमक हाई ब्लड प्रेशर का बड़ा कारण:
भोजन में अधिक नमक उत्तेजना, गुस्से और हाइपरटेंशन को जन्म देती है. धीरे-धीरे आप हाई बीपी के रोगी हो जाते हैं और आपको दिल और दिमाग  की बीमारी भी घेर लेती हैं.

अधिक नमक का उपयोग बना सकता है अलसर का मरीज:
खाने में अधिक नमक खाने से हेलिकोबैक्टर पाइलोरी बैक्ट्रीरिया एक्टिव हो जाते है, जो पेट में अलसर होने का बड़ी वजह है. अतिरिक्त नमक की तादाद से एच पाइरोली बैक्‍टीरिया खतरनाक रूप ले लेते हैं और पाचन तंत्र को कमजोर बना देता हैं.

बेटियों के उज्जवल भविष्य के लिए सरकार से मिलेंगे 15000 रुपए, ऐसे उठाएं लाभ

अखिलेश ने गोरखपुर को कहा गुनाहपुर, जानिए क्यों ?

प्राइवेट हॉस्पिटलों में 930 के हुए कोरोना टेस्ट, तीन दिनों में मिले 100 से अधिक संक्रमित केस